विश्व के प्रमुख संगठन-3(Major Organizations of the World-3) - GK Study

Breaking

विश्व के प्रमुख संगठन-3(Major Organizations of the World-3)


विश्व के प्रमुख संगठन तथा उनकी जानकारी पार्ट -




1. राष्ट्रमंडल ::   राष्ट्रमंडल की स्थापना 11 दिसंबर 1931 को हुई थी। लेकिन राष्ट्रमंडल का आधुनिक स्वरूप 1947 में भारत और पाकिस्तान के स्वतंत्र होने के बाद निश्चित हुआ। और इसका मुख्यालय लंदन में है
मूलता इसका नाम ब्रिटिश कॉमनवेल्थ था परंतु अब उसका नाम कॉमनवेल्थ जाने राष्ट्रमंडल कर दिया गया है 
जो भी देश पहले ग्रेट ब्रिटेन के अधीन वे स्वेच्छा से इसके सदस्य बनाए जा सकते हैं ब्रिटेन की महारानी इसके अध्यक्ष हैं वर्तमान में 53  देश इसके सदस्य हैं जो विश्व के देशों का लगभग एक तिहाई हे |  इस संगठन में शामिल होने वाला अंतिम देश नौरू है 
इस संस्था का उद्देश्य भूतपूर्व उपनिवेशो के परस्पर हितों की रक्षा करना है 
राष्ट्रमंडल के सदस्य राष्ट्र के अंदर दूसरे राष्ट्र के राजनयिक प्रतिनिधि का पदनाम उच्चायुक्त हाई कमिश्नर होता है ना कि राजदूत

2. अरब लीग:: इसकी स्थापना 22 मार्च 1945 को हुई थी और इसका मुख्यालय ट्यूनीशिया में है 
इसका मुख्य उद्देश्य अरब देशों के बीच परस्पर आर्थिक संबंधों को शुरू करना है वर्तमान में 22  देश के सदस्य हैं


3.  आसियान(ASEAN):: इसका पूरा नाम एसोसिएशन आफ साउथईस्ट एशियन नेशंस(Association of Southeast Asian Nations) है 
इसका गठन 7 अगस्त 1969 को हुआ और इसका मुख्यालय जकार्ता (इंडोनेशिया) में है 


वर्तमान में इसके देश सदस्य देशों की संख्या 10 है इंडोनेशिया , थाईलैंड, फिलिपींस, मलेशिया, सिंगापुर, ब्रूनेई, वियतनाम, म्यानमार, लाओस  और कंबोडिया |  भारत, पाकिस्तान ,अमेरिका, रूस, और चीन सहित इसके 12 पूर्णवार्ता भागीदार भी हैं 
इसका उद्देश्य दक्षिण एशिया में आर्थिक प्रगति को त्वरित करना और स्थायित्व को बनाए रखना है यह संस्था परस्पर आर्थिक राजनीतिक सांस्कृतिक और तकनीकी तथा व्यवस्थापक सहयोग करती है


4. उत्तरी अटलांटिक संधि संगठन(NATO):: नाटो की स्थापना 4 अप्रैल 1946 को हुई और इसका मुख्यालय ब्रुसेल्स (बेल्जियम) में 
है इसके सदस्यों की संख्या 29  हे  
इसका उद्देश्य परस्पर सैनिक शक्ति संतुलन बनाए रखना है 
इस संस्था के किसी एक सदस्य पर बाहरी हमला सभी पर हमला माना जाता है 

गुटनिरपेक्ष आंदोलन(Non Aliged Movement):: द्वितीय विश्व युद्ध के पश्चात महा शक्तियों की गुटबाजी से अलग गुट निरपेक्ष आंदोलन का सूत्रपात 1956 में हुआ| भारत के जवाहरलाल नेहरू मिस्त्र के कर्नल नासिर तथा युगोस्लाविया के मार्शल टीटो इस आंदोलन के संस्थापक एवं प्रेरणा स्त्रोत थे


5. दक्षिण एशियाई क्षेत्रीय सम्मेलन(SAARC):: इसकी स्थापना 1985 में हुई थी और इसका मुख्यालय काठमांडू नेपाल में है इसके सदस्य सात  हैं भारत, मालदीव, पाकिस्तान, बांग्लादेश, श्रीलंका, भूटान एवं नेपाल इसका उद्देश्य दक्षिण एशिया में सदस्य देशों के बीच परस्पर आर्थिक सांस्कृतिक एवं वैज्ञानिक आदान-प्रदान करना है


6. यूरोपियन संघ(European Unian):: इसकी स्थापना 1965 में हुई थी तथा इसका मुख्यालय ब्रुसेल्स (बेल्जियम) में है 
इसके सदस्यों की संख्या 28 से यह विश्व का प्रथम और सबसे समृद्ध साली व्यापार संघ है इस समूह के नागरिक विश्व की कुल संपदा के करीब एक चौथाई का उत्पादन करते हैं




7. अफ्रीकी संघ:: इसकी स्थापना स्वतंत्र की देशों द्वारा मई 1963 में इथियोपिया की राजधानी अदीस अबाबा में हुई थी इसके सदस्यों की संख्या 54  है यह संगठन आर्थिक एवं राजनीतिक समस्याओं को जो अफ्रिका के समक्ष उपस्थित हैं परस्पर सहयोग के माध्यम से हल करता है


8.  इंटरपोल:: यह विभिन्न  राष्ट्रों की पुलिस की एक अयोगीय  संस्था है जिसकी स्थापना 1923 में की गई थी इसका मुख्यालय पेरिस फ्रांस में है उसका कार्य विभिन्न राष्ट्रों में पुलिस के कार्यों को संबंधित करना तथा अंतरराष्ट्रीय अपराधों को रोकने एवं संबंधित अपराधियों को पकड़ने में आवश्यक कार्यों का संयोजन करना है इसके 192 सदस्य हे 


9. रेड क्रॉस:: इसकी स्थापना 1863  में जिनेवा में जे. एच. ड्यूनेण्ट के नेतृत्व में की गई थी वर्तमान समय में विश्व में 150 रेड क्रॉस संगठन कार्य कर रहे हैं यह संगठन युद्ध में आंतों एवं प्राकृतिक आपदाओं से ग्रस्त विश्व के सभी विश्व के किसी भी भाग में लोगों की सहायता करता है इसके 3 बार 1917 1944 1963 में नोबेल शांति पुरस्कार दिया जा चुका है


10. G8::  इसकी स्थापना 1989 में की गई थी तथा इसके वर्तमान में 19 सदस्य हैं इसका उद्देश्य विकासशील देशों के मध्य सहयोग नीतिगत समन्वय और उनके बीच विकास से संबंधित समस्याओं पर विचार करना है

11. G77:: इसकी स्थापना 1967 में की गई थी इसका मुख्यालय जिनेवा में ही वर्तमान में इसकी सदस्य संख्या 134 से इसका उद्देश्य दस्य देशों के बीच आर्थिक सहयोग और विकास को बढ़ाना है

12. एमनेस्टी इंटरनेशनल:: यह मानव अधिकार के संबंध एक विश्वव्यापी  संगठन है इसकी स्थापना एक ब्रिटिश वकील पीटर मेंशन ने 1961 में की थी इसका मुख्यालय लंदन में है वर्तमान में इसके दुनिया के 150 देशों में 5 लाख से ज्यादा सदस्य हैं इसे सन 1977 में शांति का नोबेल पुरस्कार भी प्राप्त हुआ

13. स्वतंत्र राष्ट्रों का राष्ट्रकुल(CIS):: यह भूतपूर्व संघ गणराज्य से अलग हुए 12 राष्ट्रों का समूह है जिसे कॉमनवेल्थ ऑफ इंडिपेंडेंट स्टेट्स (CIS) के नाम से जाना जाता है 
इसकी स्थापना 21 दिसंबर 1991 को कजाकिस्तान की राजधानी अल्माटी में हुई थी 
इसका मुख्यालय मिंस्क (बेलारूस) में है 
इसके सदस्यों में आर्मेनिया, अजरबैजान, बेलारूस, जॉर्जिया, कजाकिस्तान, तजाकिस्तान, किर्गिस्तान, तुर्कमेनिस्तान ,उज़्बेकिस्तान, मालडोवा , रूस तथा यूक्रेन शामिल है

14. बिम्सटेक(BIMSTEC):: जून 1997 में Bangladesh India Myanmar Sri Lanka Thailand Economic Co-Orporation के नाम से इसकी स्थापना हुई उसका मुख्यालय बैंकॉक (थाईलैंड) में है 
इसकी स्थापना का उद्देश्य सदस्य  देशों के बीच आर्थिक सहयोग को सुदृढ़  करना है 
वर्तमान में इसके मूल सदस्यों बांग्लादेश, भारत, म्यानमार, श्रीलंका, थाईलैंड, के अलावा बिम्सटेक में नेपाल और भूटान भी शामिल है अब इसका नाम बदलकर BAY OF BENGA INITIATIVE FOR MULTISECTORAL TECHNICAL AND ECONOMIC CO-OPERATION हो गया है


15. एपेक(APEC):: यह एशिया पैसिफिक इकोनॉमिक कॉरपोरेशन नामक संगठन है जिसकी स्थापना 7 नवंबर 1989 को हुई थी इसका मुख्यालय सिंगापुर में है 
इसकी सदस्य  संख्या 12 है अमेरिका, कनाडा, जापान, ऑस्ट्रिया , न्यूजीलैंड, दक्षिण कोरिया, ब्रूनेई, इंडोनेशिया, मलेशिया, फिलीपींस, सिंगापुर, थाईलैंड परंतु कुल 21 देशों की अर्थव्यवस्था इसकी सदस्य हैं 
इसका उद्देश्य सदस्य देशों के बीच आर्थिक सहयोग और बहुपक्षीय व्यापार में बुद्धि करना है


16. गल्फ सहयोग परिषद(GCC):: यह खाड़ी के देशों की सहयोग परिषद गल्फ कोऑपरेशन काउंसिल है जिसकी स्थापना 25 मई 1981 को हुई थी 
इसके संस्थापक सदस्य बहरीन ,कुवैत ,ओमान, कतर, सऊदी अरब और संयुक्त अरब अमीरात है इसका उद्देश्य आपस में आर्थिक एवं राजनीतिक सहयोग द्वारा क्षेत्र में सुधार और स्थायित्व पुख्ता करना है

17.MGC(Mekong Ganga Co-operation):: एमजीसी मेकॉन्ग गंगा कोऑपरेशन की स्थापना जुलाई 2000 में बैंकों में की गई थी एवं इसकी औपचारिक स्थापना 10 नवंबर 2000 को वियंतिन (लाओस) में वियंतिन घोषणा के साथ की गई 
इसके सदस्य हैं कंबोडिया, भारत, लाओस, वियतनाम, थाईलैंड और म्यानमार हैं 
इसका उद्देश्य गंगा मेकांग नदी बेसिन क्षेत्र में 6 सदस्य देशों में आपसी आर्थिक सहयोग की स्थापना है

18. शंघाई सहयोग संगठन:: इसकी स्थापना शंघाई चीन में 1996 में चीन, कजाकिस्तान, रूस, किर्गिस्तान, तजाकिस्तान द्वारा शंघाई फाइव के नाम से की गई थी 
सन 2000 में उज्बेकिस्तान के शामिल होने पर इसका नाम शंघाई सिक्स हो गया परंतु अब इसे शंघाई सहयोग संगठन के नाम से जाना जाता है इसका उद्देश्य प्रजातीयता  और धार्मिक उन्माद के खिलाफ लड़ना तथा क्षेत्र में व्यापार और निवेश को बढ़ावा देना है

19. ओपेक(OPEC):: यह Organizational of Petroleum Exporting Countries नामक संगठन है जिसकी स्थापना 1959 में बगदाद (इराक) में हुई इसका मुख्यालय विएना (ऑस्ट्रिया) में है 
इसके सदस्य देशों द्वारा कच्चे तेल के उत्पाद तथा दरों पर निरंतर रखना  प्रमुख उद्देश्य है 
वर्तमान में इसके सदस्य संख्या 13 है जिनमें अल्जीरिया, इक्वेडोर, गैबन, इंडोनेशिया, ईरान, कुवेत, लीबिया, नाइजीरिया, कतर, सऊदी अरब, संयुक्त अमीरात एवं वेनेजुएला शामिल है




विश्व के प्रमुख संगठन-1(Major Organizations of the World-1)

विश्व के प्रमुख संगठन-2(Major Organizations of the World-2)

"बचे हुए संगठन की जानकारी आप अगले पोस्ट में प्राप्त करेंगे धन्यवाद !!!!"
**For more information like this pleas visit our website dally and subscribe this website thank you**

     
                       

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें