रूसी क्रांति {Russian Revolution} - GK Study

Breaking

रूसी क्रांति {Russian Revolution}


रूसी क्रांति {Russian Revolution}

रूसी क्रांति से जुड़े तथ्‍य और जानकारियां
1917 में दो क्रांतियों ने रूस को पूरी तरह से बदल दिया है. सबसे पहले, फरवरी में हुई रूसी क्रांति ने रूसी राजशाही को गिरा दिया और एक अस्थायी सरकार की स्थापना की. फिर अक्टूबर में, एक दूसरे रूसी क्रांति में नेताओं के रूप में बोल्शेविक रखा गया, जिसके परिणामस्वरूप दुनिया के पहले कम्युनिस्ट देश के निर्माण हुआ.


1917 में दो क्रांतियों ने रूस को पूरी तरह से बदल दिया है. सबसे पहले, फरवरी में हुई रूसी क्रांति ने रूसी राजशाही को गिरा दिया और एक अस्थायी सरकार की स्थापना की. फिर अक्टूबर में, एक दूसरे रूसी क्रांति में नेताओं के रूप में बोल्शेविक रखा गया, जिसके परिणामस्वरूप दुनिया के पहले कम्युनिस्ट देश के निर्माण हुआ. रूसी क्रांति से जुड़े तथ्‍य इस प्रकार हैं:

(1) समाजवादी शब्द का इस्तेमाल सबसे पहले रोबर्ट ओवेन ने किया.

(2) आदर्शवादी समाजवाद का प्रवक्ता रॉबर्ट ओवेन को माना जाता है.

(3) वैज्ञानिक समाजवाद का संस्थापक कार्ल मार्क्स (जर्मनी) था.

(4) दास कैपिटल और कम्युनिस्ट मेनिफेस्टो नामक पुस्तक कार्ल मार्क्स ने लिखी थी.

(5) फ्रांसीसी साम्यवाद का जनक सेंट साइमन को माना जाता है.

(6) फेबियन सोशसलिज्म का नेतृत्व जॉर्ज बर्नाड शॉ ने किया.

(7) लंदन में फेबियन सोसाइटी की स्थापना 1884 ई. में हुई.

(8) दुनिया के मजदूरों एक हों- ये नारा कार्ल मार्क्स ने दिया.

(9) रूस के शासक को जार कहा जाता था.

(10) जाराशाही व्यकवस्था 1917 ई. में समाप्त हुर्इ.

(11) जार मुक्तिदाता के नाम से एलेक्सजेंडर द्वितीय को माना जाता है.

(12) रूस का अंतिम जार जार निकोलस द्वितीय था.

(13) रूस की क्रांति 1917 ई. में हुई.

(14) 1917 की क्रांति का तात्कालिक कारण प्रथम विश्वयुद्ध में रूस की पराजय था.

(15) वोल्शेविक की क्रांति 7 नवंबर 1917 ई. में हुई थी.

(16) वोल्शेविक क्रांति का नेता लेनिन था.

(17) लेनिन ने चेका का संगठन किया था.

(18) लाल सेना का संगठन ट्राटस्की ने किया.

(19) एक जार, एक चर्च और रूस का नारा जार निकोलस द्वितीय ने दिया.

(20) रूस के जार शासक एलेक्स जेंडर द्वितीय की हत्या बम विस्फोट से हुई.

(21) रूस में सबसे अधिक जनसंख्या स्लाव लोगों की थी.

(22) अन्ना कैरेनि‍ना के लेखक लीयो टाल्सटॉय थे.

(23) शून्यवाद का जनक तुर्गनेव को माना जाता है.

(24) रूसी साम्यवाद का जनक प्लेखानोवा को माना जाता है.

(25) सोशल डेमोक्रेटिक दल की स्थापना 1903 ई. में रूस में हुई.

(26) लेनिन ने रूस में 16 अप्रैल 1917 र्इ. में क्रांतिकारी योजना प्रकाशित की.

(27) इस योजना को अप्रैल थीसिस के नाम से जाना गया.

(28) रूस में नई आर्थिक नीति लेनि‍न ने 1921 ई. में लागू किया.

(29) आधुनिक रूस का निर्माता स्टालिन को माना जाता है.

(30) ले‍निन की मृत्यु 1924 ई. में हुई.

(31) राइट्स ऑफ मैन के लेखक टामस पेन है.

(32) मदर की रचना मैक्सिम गोर्की ने की.

(33) स्थायी क्रांति के सिद्धांत का प्रवर्तक ट्राटस्की था.

(34) प्रथम विश्व यु्द्ध के दौरान लेनिन का नारा युद्ध का अंत करो था.

(35) कार्ल मार्क्स का आजीवन साथी फ्रेडरिक एंजेल्स रहा.



क्रांति के परिणाम:::— 1917 की रूसी क्रांति से रूस में चली आ रही 300 साल की जारशाही का अंत हो गया कुलीन तथा चर्च की सत्ता का भी अंत हो गया एवम दुनिया की पहली समाजवादी सरकार अस्तित्व में आई जिसमें किसान मजदूर सम्मिलित थे एवं उनका समर्थन प्राप्त था इस क्रांति के सफल होने से यूरोप में राजतंत्र विरोधी लहर चलने लगी तथा कई देशों में राजशाही का अंत हो गया रूस ने जर्मनी से संधि कर ली और खुद को 1918 में युद्ध से अलग कर लिया इसके परिणाम स्वरुप रूस में मार्क्सवादी विचारधारा लोकप्रिय हुई एवं पूरे विश्व में फैलने लगी रूसी क्रांति की सफलता ने मजदूरों को संगठित किया एवं विश्व भर में मजदूरों ने सफलता प्राप्त की यहां तक कि संयुक्त राष्ट्र द्वारा अंतरराष्ट्रीय श्रम संघ की स्थापना इसी का परिणाम थी इसके पश्चात समाजवादी सरकार की यह समाजवादी व्यवस्था की स्थापना हुई उत्पादन के साधन जैसे भूमि उद्योग आदि का सामाजिकरण हो गया तथा व्यक्तिगत संपत्ति का राष्ट्रीयकरण कर दिया गया एवं नियोजित अर्थव्यवस्था की नींव पड़ी जिसने 1929 की आर्थिक मंदी से रूसी अर्थव्यवस्था को सुरक्षित रखा रूस में महिलाओं को मताधिकार सभी धर्मों को समान अधिकार तथा सभी नागरिकों को समान अधिकार प्रदान किए गए इस तरह रूसी क्रांति पूर्ण हो गई

**For more information like this pleas visit our website dally and subscribe this website thank you**

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें